(Vyakti Vachak Sangya) व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं? परिभाषा, उदाहरण

नमस्कार दोस्तों, हमारा आज का आर्टिकल हिंदी व्याकरण का एक और महत्वपूर्ण अध्याय व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं? परिभाषा, उदाहरण (Vyakti Vachak Sangya) से सम्बन्धित है।

schools के exams के अलावा competition exams में व्यक्तिवाचक संज्ञा के उदाहरण से संबंधित 1 से 2 question हमेशा पूछे जाते हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए हमारा आज का आर्टिकल व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं? व्यक्तिवाचक संज्ञा की परिभाषा, भेद व उदाहरण है।

Table of Contents

व्यक्तिवाचक संज्ञा का अर्थ क्या है?

व्यक्तिवाचक संज्ञा का अर्थ उसके नाम से ही ज्ञात होता है – वे संज्ञा शब्द जो किसी व्यक्ति विशेष का अर्थ प्रकट करते हैं।

व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं | Vyaktivachak Sangya kise kahate hain

जिस संज्ञा शब्द से किसी व्यक्ति,वस्तु, प्राणी अथवा स्थान के नाम का बोध होता है उसे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते हैं।

जैसे रोहन

यहां रोहन किसी निर्दिष्ट व्यक्ति के नाम को सूचित करता है।

Vyaktivachak Sangya kise kahate hain

व्यक्तिवाचक संज्ञा की परिभाषा

ऐसे शब्द या नाम जो किसी व्यक्ति, वस्तु या स्थान के नाम को दर्शाते हैं, उन्हें विशेष रूप से व्यक्तिवाचक संज्ञा कहा जाता है।

जैसे

राम, श्याम, मोहन, मेज, कुर्सी, कबूतर, गाय, दिल्ली , मुंबई, गंगा, यमुना, आदि।

व्यक्तिवाचक संज्ञा की पहचान के लिए

व्यक्ति के नामराम,श्याम,सीता,गीता,अब्दुल,करीम,सलीम,सलमा, जॉन, राहुल, राज, आलोक, मोदी, राकेश, यादव, पूजा, गीता, आदि।
देवी देवताओं के नामशिव, विष्णु, पार्वती, लक्ष्मी, सरस्वती आदि।
देशों का नामभारत, ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका, लंदन, कनाडा आदि।
राज्यों के नामओडिशा, पंजाब, आंध्र प्रदेश , हरियाणा , मुंबई आदि।
एतिहासिक दरवाजे एवं खिड़कियों के नामइंडिया गेट, अजमेरी गेट, सांगानेरी गेट, बीचली खिड़की आदि।
दुर्ग एवं किलो के नामरणथम्भौर दुर्ग, चित्तौड़ दुर्ग, चुरू का किला आदि।
कंपनियों के नामरियलमी , फोर्ड , सोनी , ऑडी , सैमसंग , एप्पल आदि।
उपाधि एवं पुरस्कारों के नामडॉक्टर सर, गार्गी, अर्जुन आदि।
सरकारी योजनाओं के नामजन धन योजना आदि।
खेलों के नामक्रिकेट, हॉकी, फुटबॉल, बैडमिंटन, बॉस्केट बॉल आदि।
जिले, तहसील, गाँव के नामगोरखपुर, जयपुर, टोंक, मालपुरा, कुसुम्ही, सहजनवा आदि।
पठार एवं मैदानों के नामहाड़ौती का पठार, पामीर का पठार, छप्पन का मैदान आदि।
दिशाओं के नामपूर्व, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण आदि।
नदियों के नामगंगा, महानदी, वैतरणी, गोदावरी, कावेरी आदि।
ऐतिहासिक युद्धो के नामहल्दीघाटी का युद्ध, प्लासी का युद्ध, बक्सर का युद्ध आदि।
त्योहारों के नामदशहरा, दीपावली, होली आदि।
वस्तुओं के नामकार, बस, मेज, कुर्सी, पेन, पेंसिल, पंखा, चित्र आदि।
महीनों के नामजनवरी, फरवरी, मार्च, अप्रैल, मई आदि।
भाषाओं के नामअंग्रेजी, हिंदी, बंगाली, मद्रासी आदि।
पुस्तकों के नामरामायण, महाभारत, गीता, आदि।
समाचार पत्रों के नामदैनिक भास्कर, पत्रिका, अमरउजला आदि।
चौकों के नामचाँदनी चौक, गुरुंग चौक आदि।

व्यक्तिवाचक संज्ञा के 5 उदाहरण (Vyakti Vachak Sangya Examples in Hindi)

1. राजेश का जन्म भारत के एक छोटे से गाँव में हुआ था।

इस वाक्य में, राजेश और भारत व्यक्तिवाचक संज्ञा हैं।

2. वह पढ़ाई के लिए तमिलनाडु गया।

यहाँ तमिलनाडु एक व्यक्तिवाचक संज्ञा है।

3. धोनी आईपीएल में चेन्नई के लिए खेलते हैं।

यहां धोनी, आईपीएल और चेन्नई तीनों व्यक्तिवाचक संज्ञाएं हैं।

4. राम का घर नदी के उस पार है।

यहाँ राम एक व्यक्तिवाचक संज्ञा है।

5. मनोज और राकेश हर सोमवार को समुद्र के किनारे टहलने जाते हैं।

मनोज, राकेश और सोमवार व्यक्तिवाचक संज्ञा के अंतर्गत आते हैं।

व्यक्तिवाचक संज्ञा को कैसे पहचाने (नियम)?

1. व्यक्तिवाचक संज्ञा को नामवाचक संज्ञा भी कहा जाता है।

2. व्यक्तिवाचक संज्ञा का प्रयोग हमेशा एकवचन में किया जाता है।

अर्थात्, ऐसे संज्ञा शब्द जिनका प्रयोग हमेशा एकवचन में किया जाता है, और उन्हें बहुवचन न बनाया जा सके।

3. व्यक्तिवाचक संज्ञाएं को आप देख और छू सकते हैं।

4. व्यक्तिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा का निर्माण नहीं किया जाता बल्कि वह विशेषण होता है।

5. जातिवाचक संज्ञा का कोई शब्द जब किसी व्यक्ति विशेष के अर्थ में रूढ़ हो जाता है तो वहाँ व्यक्तिवाचक संज्ञा होती है।

व्यक्तिवाचक संज्ञा के 10 उदाहरण

  • गौरैया लुप्त होती जा रही है।
  • हरिश्चंद्र सत्य का साथ देते थे।
  • गंगा, ऋषिकेश से निकलती है।
  • दिल्ली भारत की राजधानी है।
  • मोहन सातवीं कक्षा में पढ़ता है।
  • नरेंद्र मोदी कुशल राजनीतिज्ञ है।
  • कोहिनूर हीरा भारत की शान था।
  • मुंबई को मायानगरी कहा जाता है।
  • कमल पुष्प पूजा के लिए उत्तम है।
  • जयपुर को पिंक सिटी कहा जाता है।

व्यक्तिवाचक संज्ञा के 20 उदाहरण

  • विकास गांव गया है।
  • वह जापान में रहता है।
  • मुझे हिंदी पुस्तकें पढ़ना पसंद है।
  • कुतुबमीनार एक अच्छी जगह है।
  • महेंद्र सिंह धोनी क्रिकेट खेलते हैं।
  • रामायण एक बहुत अच्छी पुस्तक है।
  • पेले फुटबॉल के महान खिलाड़ी हैं।
  • मैं अभी लंदन से वापस आ रहा हूँ।
  • रामचंद्र ने 14 वर्ष का वनवास भोगा।
  • आचार्य चतुरसेन एक उपन्यासकार हैं।
  • कोलकाता भारत की पहले राजधानी थी।
  • मुझे पंजाबी में बात करना बहुत पसंद है।
  • अमेज़न नदी विश्व की सबसे लम्बी नदी है।
  • जवाहर लाल नेहरू भारत के प्रधानमंत्री थे।
  • गुलाब प्यार की गहराई को व्यक्त करता है।
  • रामचरित्र मानस का पाठ मन को शांति देता है।
  • कामधेनु गाय सभी मनोकामना पूरी कर देती है।
  • ताजमहल की खूबसूरती का कोई जवाब नहीं है।
  • मैंने आज एक जापानी भाषा की किताब खरीदी।
  • विराट कोहली इतिहास के सबसे अच्छे बल्लेबाज हैं।

व्यक्तिवाचक संज्ञा के उदाहरण वाक्य

  • मनीषा ने अपने गांव में एक विद्यालय खोला।
  • जवाहरलाल नेहरू देश के पहले प्रधानमंत्री थे।
  • पानीपत की पहली लड़ाई किसके बीच हुई थी?
  • सचिन तेंदुलकर को क्रिकेट का भगवान कहते हैं।
  • लक्ष्मीबाई ने पुत्र की रक्षा के लिए हथियार उठाया।
  • भारत का संविधान भीमराव आंबेडकर ने लिखा था।
  • रोहन का एक प्यारा सा कुत्ता है जिसका नाम डोलो है।
  • रामायण हिन्दू धर्म के सबसे उत्कृष्ट लेखों में से एक हैं।
  • भारत रत्न अवार्ड मिलना एक गौरव की बात होती है।
  • सुबह सुबह अमरउजाला समाचार पत्र पढ़ना मुझे काफी पसंद है।
  • जन धन योजना के द्वारा देश के कई नागरिकों को लाभ हुआ है।
  • नीक का जन्म अमेरिका में हुआ था लेकिन अब वह भारत में रहता है।
  • भूटान की एक छोटी लड़की चंपा हिमालय के शिखर पर जा पहुँची।
  • महात्मा गाँधी ने अहिंसा का उपयोग करके भारत को आज़ादी दिलवाई थी।

उपर्युक्त वाक्यों में गाढ़े काले रंग के शब्द हैं , वह सब व्यक्तिवाचक संज्ञा के शब्द हैं।

व्यक्तिवाचक संज्ञा से अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न | Vyakti Vachak Sangya FAQs

व्यक्ति वाचक संज्ञा क्या है?

जिस शब्द से किसी विशेष व्यक्ति , वस्तु या स्थान के नाम का बोध हो उसे व्यक्ति वाचक संज्ञा कहते हैं।

व्यक्तिवाचक संज्ञा के कितने प्रकार होते हैं?

व्यक्तिवाचक संज्ञा के प्रकार/भेद नहीं होते हैं।

आप व्यक्ति वाचक संज्ञा की पहचान कैसे करेंगे?

व्यक्ति वाचक संज्ञा की पहचान आप निम्न रूपों में कर सकते हैं –
स्त्री पुरुषों के नाम : राधा, गोविंद, रमेश, पार्वती आदि।
देवी देवताओं के नाम : शिव, विष्णु, पार्वती, लक्ष्मी आदि।
देशों के नाम : भारत, पाकिस्तान, चीन, नेपाल आदि।
राज्यों के नाम : राजस्थान, गुजरात, पंजाब आदि।
खाड़ी एवं झीलों के नाम : बंगाल की खाड़ी, नक्की झील आदि।
महाद्वीप के नाम : एशिया, यूरोप आदि।

व्यक्तिवाचक संज्ञा के उदाहरण क्या है?

व्यक्तिवाचक संज्ञा के उदाहरण –
गाय घास खाती है।
यह आम का पेड़ है।
छत पर कबूतर बैठे हैं।
रमेश कल दिल्ली गया था।
लाल किला दिल्ली में है।
भारत की पवित्र नदी गंगा है।
हिमालय भारत का सिरमौर है।

व्यक्तिवाचक संज्ञा जाति वाचक कब बन जाती है उदाहरण सहित लिखिए?

व्यक्तिवाचक संज्ञा का प्रयोग सदा एकवचन मे होता है, परन्तु जब कोई व्यक्तिवाचक संज्ञा किसी व्यक्ति विशेष का बोध न कराके उस व्यक्ति के गुण या दोषों वाले अन्य का बोध कराती है, तब वह संज्ञा व्यक्ति वाचक न रहकर जातिवाचक संज्ञा बन जाती है। जैसे – कलियुग में हरिश्चन्द्रों की कमी नही है।
यहाँ ‘हरिश्चन्द्र’ व्यक्तिवाचक संज्ञा उसके ‘सत्य’ और ‘निष्ठा’ के गुण को प्रगट करने से जातिवाचक संज्ञा बन गई है।

आज आपने क्या सीखा ?

आज के आर्टिकल में हमने व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं? परिभाषा, उदाहरण (Vyakti vachak Sangya) के बारे में जानकारी दी है।

जहां हमने पूरे विस्तार से “Vyakti vachak Sangya kise kahate hain” व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं? परिभाषा, उदाहरण के बारे में पढ़ा और समझा है। हिन्दी व्याकरण से सम्बंधित और भी आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारे होम पेज पर जाएं तथा आपके मन में हमारे इस लेख से सम्बन्धित किसी भी प्रकार के प्रश्न होने पर आप कमेंट बॉक्स में लिखें। हम आपके प्रश्नों का समाधान ढूंढने की पूरी कोशिश करेंगे। धनयवाद!

यह भी पढ़े

Leave a Comment