TT Full Form Hindi (Tetanus Toxoid)


नमस्कार दोस्तों, हमारा आज का लेख TT Full Form Hindi (Tetanus Toxoid) से संबंधित है। TT एक टीका या वेक्सीन है जिसका इस्तेमाल टिटनेस को रोकने के लिए किया जाता है।


दोस्तों, अगर आप tt (Tetanus Toxoid) से संबंधित जानकारी की तलाश कर रहे हैं तो आप बिल्कुल सही जगह हैं आज के आर्टिकल में हम आपको Tetanus Toxoid (TT injection) से संबंधित संपूर्ण जानकारी देंगे जहां हम आपको tt ka full form in Hindi, TT क्या होता है, TT Full Form in Medical, TT के लक्षण, TT से होने वाली बीमारी आदि के बारे में बताएंगे।


टीटी का फुल फॉर्म क्या है ? | TT Full Form details in Hindi


TT Full Form in English


T – Tetanus


T – Toxoid


इस तरह TT का फुल फॉर्म “Tetanus Toxoid” होता है।


TT (Tetanus Toxoid) full form in Hindi | TT Meaning In Hindi


TT full form हिंदी में “धनुस्तंभ जीव विषाभ” है। इसे Tetanus वैक्सीन भी कहा जाता है।


TT (Tetanus Toxoid) क्या है?


Tetanus Toxoid एक वेक्सीन है जो हमें Tetanus के विरोध में सुरक्षा (प्रतिरक्षा) प्रदान करता हैं।


Tetanus क्या है?


Tetanus जिसे लॉकजॉ कहा जाता है, बैक्टीरिया से होने वाला संक्रमण है जो मांसपेशियों की दर्दनाक ऐंठन का कारण होता है और अत्यधिक गंभीर स्थिती होने पर मृत्यु का कारण भी बन सकता है।


यह एक गंभीर बीमारी है जो मिट्टी, खाद या धूल में पाए जाने वाले क्लॉस्ट्रिडियम टेटानी बैक्टीरिया के शरीर में प्रवेश करने के कारण होता है। इसे केवल Tetanus Toxoid टीकाकरण से ही रोका जा सकता है।


TT (Tetanus Toxoid) कब होता है?


जैसा कि ऊपर हम बता चूके हैं, क्लॉस्ट्रिडियम टेटानी के शरीर में प्रवेश करने के कारण Tetanus Toxoid होता है। क्लॉस्ट्रिडियम टेटानी पर्यावरण में व्यापक रूप से पाया जाने वाला सूक्ष्मजीव है जो कि शरीर में कहीं कट लगने या घावों के माध्यम से मानव शरीर में प्रवेश करके संक्रमण फैलाता है, खासकर जब घाव गंदा होता है।


TT से होने वाली बीमारी?


लोहे से शरीर में कट होने पर या घाव होने पर, किसी जानवर के काटने से, जलने या नॉन-स्टेराइल इंजेक्शन से क्लॉस्ट्रिडियम टेटानी शरीर में संक्रमण कर सकता है। अगर आपने TT का इंजेक्शन नही लगया है तो भी जीवाणु घाव या कट से घुस कर आपके शरीर में प्रवेश कर सकते हैं। यह तंत्रिका तंत्र को प्रभवित करते हैं।


आपकी जानकारी के लिए बता दें, संक्रमण के बाद तीन दिनों से एक सप्ताह के अंदर टिटनेस के प्रारंभिक लक्षण किसी भी समय दिखाई दे सकते हैं, लेकिन लक्षण शुरू होने का औसत समय आठ दिन होता है।


Read This Also,

NIA full Form

TT (Tetanus Toxoid) का इतिहास?


साल 1920 के दशक में TT वैक्सीन के टीके को विकसित किया गया था और द्वितीय विश्व युद्ध के समय अमेरिकी सेना को टेटनस से बचाने में यह सफल हो गया। टेटनस टीकाकरण सभी शिशुओं, बच्चों और वयस्कों के लिए है।


TT के लक्षण | Symptoms of Tetanus?


लॉकजॉ (Lock Jaw)

आवेग

ऐंठन

मांसपेशियों में अकड़न

खाना खाते वक्त निगलने में तकलीफ़


TT टिका किसे लगाया जा सकता है?


TT (Tetanus Toxoid) टिका वयस्कों और 7 वर्ष या उससे अधिक उम्र के बच्चों में टेटनस से सुरक्षा (प्रतिरक्षा) प्रदान करने के लिए दिया जाता है।


टीटी इन्जेक्शन के लाभ?


जिस भी व्यक्ति के शरीर में टिटनेस के बैक्टीरिया प्रवेश कर जाते हैं उनमें लॉक्ड जॉ नामक स्थिति आती है, जिसके कारण उन्हें सांस लेने में दिक्कत, मुंह खोलना या निगलने में दिक्कत आने लगती है। ऐसे में टीटी इन्जेक्शन टिटनेस का कारण बनने वाले बैक्टीरिया का इन्फेक्शन रोकने वाले पदार्थों को पैदा करने में शरीर की मदद करता है।


टिटनेस का इंजेक्शन कब लगता है | Tetanus ka injection kab lagta hai in hindi


टिटनेस इंजेक्शन के पूरे कोर्स में पांच इंजेक्शन दिए जाते हैं –


First three dose पैदा हुए सभी बच्चों के लिए 8, 12 और 16 week में 6-in-1 Vaccine के रूप में दिया जाता है।


एक booster dose तीन साल और चार महीने की उम्र में बच्चों को pre school booster 4-in-1 Vaccine के रूप में दिया जाता है।


एक ultimate booster 14 साल की उम्र में 3-in-1 teen booster के रूप में दी जाता है।


प्राथमिक श्रृंखला पूरी करने के बाद, हर 10 वर्षों में Td booster इंजेक्शन लेने चाहिए।


हालाकि, हममें से ज्यादातर लोगों को बचपन में टिटनेस इंजेक्शन लगे होते हैं, इसलिए हर 10 वर्षों में हमे एक बूस्टर शॉट या इंजेक्शन की आवश्यकता होती है।


TT टिका का असर कब तक रहता है?


TT टीके का असर 6 महीने तक रहता है। इन 6 महीनों के बीच अगर आपको किसी भी तरीके से चोट लगती हैं तो आपको यहा टीका दुबारा लगाने की जरूरत नही हैं।

फिर अगर आपको 6 महीने के बाद चोट लगती है तो तब आप डॉक्टर से पूछ कर इस टीके को लगवा सकते हैं।


टिटनेस का इंजेक्शन प्राइस | Tetanus Injection price


सरकार द्वारा राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम के अंतर्गत टिटनेस के खिलाफ टीकाकरण किया जाता है, जहां बच्चों और गर्भवती महिलाओं को मुफ्त में टिटनेस का इंजेक्शन लगाया जाता है।


वैसे, बाजार में टीटी इंजेक्शन की 1 एमएल मात्रा की एक खुराक की कीमत लगभग 26 रुपये 13 पैसे पड़ती है। यह इंजेक्शन किसी भी मेडिकल की दुकान पर आसानी से आपकों मिल जाएगी। आप इसे डॉक्टर की सलाह से डॉक्टर द्वारा दिए गए पर्चे पर निर्देश से खरीद सकते हैं।


Leave a Comment