TLC Full Form Hindi (Total Leukocyte Count)


नमस्कार दोस्तों, हमारा आज का लेख TLC Full Form Hindi (Total Leukocyte Count) से सम्बन्धित है। हमारे शरीर में मौजूद सफेद रक्त कोशिकाओं की गिनती के लिए tlcTest (Total Leukocyte Count) कराया जाता है। TLC एक प्रकार का blood test होता है।


आप TLC से सम्बन्धित जानकारी की तलाश कर रहे हैं तो आप बिल्कुल सही जगह हैं। आज हम आपको TLC full form, TLC क्या है, TLC test क्यों जरुरी है, टीएलसी कितना होना चाहिए, क्या होता अगर टीएलसी अधिक है, TLC कम होने से क्या होता है, Other full form of TLC आदि से संबंधित सम्पूर्ण जानकारी देंगे।


टीएलसी का फुल फॉर्म क्या है ? | TLC Full Form information in Hindi


TLC Full Form in English


T – Total


L – Leukocyte


C – Count


इस तरह TLC का फुल फॉर्म “Total Leukocyte Count” होता है।


TLC Full Form Hindi | TLC Meaning In Hindi


TLC full form हिंदी में “टोटल ल्यूकोसाइट काउंट” होता है। इसका हिंदी में मतलब “कुल ल्यूकोसाइट गिनती” होता है।


Total leucocyte count (TLC Full Form) क्या है | टीएलसी क्या है?


TLC शरीर में मौजूद कुल ल्यूकोसाइट की गिनती को कहा जाता है। जब कोई व्यक्ति खून से जुड़ी किसी बीमारी से जूझ रहा होता है तब डॉक्टर बीमारी की गंभीरता का पता लगाने के लिए TLC test की मदद लेते हैं।


TLC Test क्या है? | TLC Test in Hindi


TLC Test एक तरह की खून की जाँच है जिसकी मदद से हमारे शरीर में मौजूद ल्यूकोसाइट्स की संख्या को गिनती की जाती है। इस टेस्ट को डब्ल्यूबीसी काउंट (WBC count) भी कहा जाता है।


TLC test की मदद से डॉक्टर 1 क्यूबिक मिलीमीटर (एमएम3) में टोटल ल्यूकोसाइट कितना है की जांच करते हैं और इसी की मदद से वे मरीज के अंदरूनी बुखार, पेशाब में इन्फेक्शन, खासी, एनीमिया आदि खून सी जुडी परेशानी के बारे में पता लगा पाते हैं।

Read This Also,
OTP Full Form

Leukocyte क्या है?


Leukocyte का हिंदी मीनिंग श्वेत रक्त कोशिकाएं अर्थात् सफेद रक्त कोशिकाएं होती हैं।


श्वेत रक्त कोशिका क्या है?


जैसा कि ऊपर हम आपको बता चुके हैं, Leukocyte को ही श्वेत रक्त कोशिका कहा जाता है। ये हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली का एक जरुरी हिस्सा है। ये शरीर में एंटीबॉडी का निर्माण करते हैं जिससे हमारे शरीर को बैक्टीरिया, वायरस से लड़ने के लिए मदद मिलती है।


श्वेत रक्त कोशिका (WBC) न केवल बैक्टीरिया, वायरस से लड़ने में मदद करता है साथ ही हमारे शरीर को बीमारियों से भी बचाता है। यह शरीर में एक सैनिक की तरह कार्य करता है। यही वजह है कि श्वेत रक्त कोशिका को हमारे शरीर का रक्षक भी कहा जाता है।


हमारे रक्त में सामान्य रूप से पांच प्रकार WBC होते हैं। यहां हमने आपकी जानकारी के लिए एक स्वस्थ वयस्क में WBC और उनके प्रकारो का प्रतिशत और सामान्य सीमा को दर्शाया है –


न्यूट्रोफिल या बहुरूपता: 40 – 60%

लिम्फोसाइट्स (बी और टी कोशिकाएं): 20 – 40%

मोनोसाइट्स: 2 – 8%

ईोसिनोफिल्स: 1 – 4%

बैंड या युवा न्यूट्रोफिल: 0 – 3%

बेसोफिल्स: 0.5 – 1%


शरीर में श्वेत रक्त कोशिका कितनी होनी चाहिए? | टीएलसी कितना होना चाहिए?


टीएलसी (श्वेत रक्त कोशिका) की संख्या सभी उम्र के लोगो में अलग-अलग होता है। एक स्वस्थ इंसान के blood में सफेद रक्त कोशिका यानी टीएलसी की सामान्य सीमा 4000-11000/mm3 होती है।


यहां हम आपकी जानकारी के लिए बता दें, एक व्यस्क के मुकाबले स्वस्थ बच्चे और युवाओं में सफेद रक्त कोशिकाओं (TLC) की संख्या अधिक होती है।


आप कह सकते हैं कि श्वेत रक्त कोशिका की संख्या महिला, परुष, बच्चे और युवा में अलग अलग होते है –


नवजात शिशु – 10000-26000/mm3

2 हफ्तों तक के शिशु – 6000-21000

4 हफ्तों तक के शिशु – 6000-18000

बच्चे (1 से वर्ष से कम) – 6000-17500

बच्चे (1-6 वर्ष) – 5000-17000/mm3

बच्चे (6-12 वर्ष) – 4500-14500/mm3

बच्चे (12-18 वर्ष) – 4500-13000/mm3

वयस्क – 4500-11000/mm3


TLC test क्यों जरुरी है?


टीएलसी किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य की जांच करने के लिए किया जाता है। यह संक्रमण व अन्य स्थितियों जैसे एलर्जी, सूजन और कैंसर का पता लगाता है।


आपकी जानकारी के लिए बता दें, यह कोई परीक्षणात्मक टेस्ट नहीं है, लेकिन किसी भी रोग की गंभीरता का पता लगाने और ट्रीटमेंट की प्रतिक्रिया जानने में सहायक होता है।


आइए जानते हैं किन स्थितियों में टीएलसी टेस्ट किया जाता है –


Infection

Blood Disease

Leave a Comment