Sarvanam in Hindi | सर्वनाम किसे कहते हैं | सर्वनाम के कितने भेद होते हैं?

नमस्कार दोस्तों, हमारा आज का आर्टिकल सर्वनाम किसे कहते हैं | सर्वनाम के कितने भेद होते हैं? | Sarvanam in Hindi से संबंधित है। जहां हमने उदाहरण सहित सर्वनाम की परिभाषा, सर्वनाम किसे कहते हैं, सर्वनाम के कितने भेद हैं (Sarvanam ke Bhed) के बारे में बताया है।

सर्वनाम की परिभाषा, उदाहरण और भेेद से संबंधित 1 से 2 question हमेशा schools के exams से व competition exams में पूछे जाते हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए हमारा आज का यह आर्टिकल है।

Table of Contents

सर्वनाम शब्द का अर्थ | Meaning of Pronoun in Hindi

सर्वनाम शब्द सर्व + नाम से मिलकर बना है। जहाँ सर्व शब्द का अर्थ है सभी या सब  तथा नाम का अर्थ हिंदी व्याकरण में संज्ञा से लिया जाता है।

अतः हम कह सकते हैं कि वे सभी शब्द जिनका प्रयोग संज्ञा के स्थान पर किया जाता है, सर्वनाम कहलाता है।

सर्वनाम की परिभाषा | Sarvanam Definition in Hindi

संज्ञा के स्थान पर जिन शब्दों का प्रयोग होता है, उन शब्दों को सर्वनाम कहते हैं।

सरल शब्दों में समझा जाए तो किसी व्यक्ति वस्तु स्थान गुण भाव के नाम को संज्ञा कहते हैं और जो शब्द संज्ञा के स्थान पर प्रयोग हो सकता है, उसे सर्वनाम (Pronoun in Hindi) कहते हैं।

सर्वनाम किसे कहते हैं | Sarvanam kise kahate hain in Hindi

किसी भी वाक्य में संज्ञा शब्द की पुनुरुक्ति (बार-बार आना) को दूर करने के लिए उसके स्थान पर जिस शब्द का प्रयोग किया जाता है उसे सर्वनाम कहते हैं।

आइए, उदाहरण से समझते हैं –

“सीता एक बुद्धिमान लड़की है। सीता कक्षा में सदैव प्रथम आती है। सीता का भाई समीर है।”

उक्त वाक्य में सीता शब्द (जो कि एक संज्ञा है) का प्रयोग तीन बार हुआ है, यह वाक्यों की अशुद्धि को व्यक्त करता है।

अतः वाक्य को शुद्ध एवं सरल बनाने के लिए सीता संज्ञा के स्थान पर अन्य शब्द का प्रयोग किया जा सकता है। जैसे –

“सीता एक बुद्धिमान लड़की है। वह कक्षा में सदैव प्रथम आती है। उसका भाई समीर है।”

यहां सीता संज्ञा के स्थान पर वह, तथा उसका शब्द का प्रयोग किया गया है। अतः इन्हें ही सर्वनाम कहा जाता है।

सर्वनाम के भेद/प्रकार | Sarvanam ke bhed in Hindi | Sarvanam Types in Hindi

सर्वनाम के 6 भेद होते हैं, जो निम्नलिखित हैं –

  1. पुरूषवाचक सर्वनाम (तू, मैं, हम, वह, मैंने)
  2. निश्चयवाचक सर्वनाम (वह, यह)
  3. निजवाचक सर्वनाम (आप)
  4. प्रश्नवाचक सर्वनाम (क्या, कौन)
  5. संबंधवाचक सर्वनाम (जो, सो)
  6. अनिश्चयवाचक सर्वनाम (कुछ, कोई)

पुरुषवाचक सर्वनाम (purushvachak sarvanam in Hindi)

पुरुषवाचक सर्वनाम की परिभाषा वे सर्वनाम जो वक्ता, श्रोता व् अन्य के नाम के बदले आते हैं, उसे पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं।

अर्थात्, ऐसे शब्द जिनका प्रयोग बोलने वाला अपने लिए, सुनने वाले के लिए और जिसके बारे में बात की जा रही है उसके लिए प्रयुक्त होता है, उसे पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं।

जैसे

  • मैं, हम (वक्ता द्वारा खुद के लिए)
  • तुम, आप (सुनने वाले के लिए)
  • ये, वे, यह, वह (किसी और (अन्य) के बारे में बात करने के लिए)

उदाहरण

  • मैं दिल्ली रहता हूँ।
  • तुम कहाँ रहते हो?
  • वह गांव रहता है।

पुरुषवाचक सर्वनाम के तीन भेद होते हैं –

  1. उत्तम पुरुष (वक्ता – बोलने वाला या लिखने वाला)
  2. मध्यम पुरुष (श्रोता – सुनने वाला)
  3. अन्य पुरुष (जिसके बारे में बात की जाए)

उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम

जिस सर्वनाम शब्द का प्रयोग वक्ता खुद के बारे में बताने के लिए करता है, उसे उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं।

जैसे

मैं, मैने, हम, हमने, मेरा, हमारा, मुझे, मुझको, हमको, हमसे आदि।

वाक्य में मैं, मुझे, मेरा, मुझको एकवचन दर्शाने के लिए और हम, हमें, हमारा, हमको बहुवचन दर्शाने के लिए प्रयुक्त होता है।

उदहारण

  • मैं आज भीग गया।
  • मुझे सोना है।
  • मेरा इंतजार करना।
  • मुझको याद नहीं है।
  • हम कल तक जाएँगें।
  • हमें क्या लेना है?
  • हमारा घर है।

मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम

जिस सर्वनाम शब्द का प्रयोग वक्ता, सुनने वाले व्यक्ति के लिए करता है, उसे मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं।

जैसे

तू, तुझे, तेरा, तुझको, तुम, तुम्हें, तुम्हारा, तुमको, आप आदि।

उदहारण

  • राजीव तू कहाँ रहता है?
  • तुझे कल मंदिर जाना है।
  • तेरा मित्र आया है।
  • तुझको किसी से बहस नहीं करनी चाहिए।
  • तुम अपने काम से काम रखो।
  • तुम्हें उससे क्या लेना देना है?
  • तुम्हारा नाम क्या है?
  • आप कहाँ रहते हो?

अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम

जिस सर्वनाम शब्द का प्रयोग वक्ता और श्रोता द्वारा किसी अन्य व्यक्ति के लिए किया जाता है, उसे अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं।  

जैसे

यह, वह, ये, वे, आप आदि।

उदहारण

  • यह मेरी बहन है।
  • वह तुम्हारा भाई है।
  • वे तुम्हारी बकरियाँ है।
  • ये हमारी किताबे हैं।

निश्चयवाचक सर्वनाम (nishchay vachak Sarvanam in Hindi)

निश्चयवाचक सर्वनाम की परिभाषा वे सर्वनाम शब्द जिनका प्रयोग किसी निश्चित व्यक्ति या वस्तु का बोध कराने के लिए किया जाता है, उसे निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं।

जैसे

यह, वह, ये, वे आदि।

उदहारण

  • यह मेरा घर है।
  • यह मेरी पुस्तक है।
  • वह तुम्हारा पेन है।
  • वह राम की पुस्तक है।
  • ये हमारी बकरियां है।
  • ये मेरे खिलौनें हैं।
  • वे तुम्हारी किताबे हैं।
  • वे बकरियाँ हैं।

अनिश्चयवाचक सर्वनाम (Anishchay Vachak Sarvanam in Hindi)

अनिश्चयवाचक सर्वनाम की परिभाषा वे सर्वनाम शब्द जिनका प्रयोग किसी अनिश्चित व्यक्ति या वस्तु का बोध कराने के लिए किया जाता है, उसे अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं। 

जैसे

कोई, कुछ, किसी आदि।

उदाहरण

  • कुछ लोग आये हुए थे।
  • चाय में कुछ गिरा है।
  • वह किसी की बकरी है?
  • यह किसी का पेन है।
  • कोई भी नहीं आएगा
  • यहाँ कोई आ रहा है।

प्रश्नवाचक सर्वनाम (Prashna Vachak Sarvanam in Hindi)

प्रश्नवाचक सर्वनाम किसे कहते हैंजिन सर्वनाम शब्द का प्रयोग किसी वाक्य में प्रश्न के करने का बोध कराने के लिए किया जाता है, उसे प्रश्नवाचक सर्वनाम कहलाते हैं।

जैसे

क्या, क्यों, कैसे, कहाँ, कब, कौन, किसका, कितना, किसकी, किसके आदि।

उदहारण

  • यह किसकी पुस्तक है?
  • क्या आज मंगलवार है?
  • मोहन कैसे जाएगा?
  • वह क्यों नहीं आया?
  • उसको कितना दूध दिया?
  • अगली छुट्टी कब होगी?
  • आप कहाँ रहते हो?
  • उसे किसने बुलाया?
  • आप किसके पास गए थे?
  • रसोड़े में कौन था?
  • आप कौन हो?

संबंधवाचक सर्वनाम (सह-सम्बन्ध वाचक सर्वनाम) (Sambandh Vachak Sarvanam in Hindi)

सम्बन्ध वाचक सर्वनाम की परिभाषावे सर्वनाम शब्द जिनका प्रयोग किसी संज्ञा या सर्वनाम के उपवाक्यों के बीच सम्बन्ध का बोध कराने के लिए किया जाता है, उसे सम्बन्ध वाचक सर्वनाम कहलाते हैं।

जैसे

जो-सो/वह, जिसकी- उसकी, जैसी-वैसी, जितना-उतना आदि।

उदहारण

  • जो आया है, सो जायेगा।
  • जो विद्वान होता है, वह सदा सुखी रहता है।
  • जैसी करनी, वैसी भरनी।
  • जिसकी लाठी, उसकी भैंस।
  • जैसे गए थे, वैसे आ जाओ।
  • जितना गुड़ डालोगे, उतना मीठा होगा।

निजवाचक सर्वनाम (Nij Vachak Sarvanam in Hindi)

निजवाचक सर्वनाम की परीभाषा वे सर्वनाम शब्द जिनका प्रयोग व्यक्ति स्वयं के लिए करता है, उसे निजवाचक सर्वनाम कहलाते हैं।

जैसे

स्वयं, खुद, स्वत:, आप, अपने आप आदि।

उदहारण

  • यह कार्य मैं स्वयं कर लूँगा।
  • वह अपना खाना खुद पकाता है।
  • वह अपने घर स्वत: चला गया।
  • मै अपने आप चला जाऊंगा।
  • रानी अपने कार्य अपने आप करती है।

आज आपने क्या सीखा?

हमारा आज का आर्टिकल सर्वनाम किसे कहते हैं | सर्वनाम के कितने भेद होते हैं? | Sarvanam in Hindi से संबंधित था।

जहां हमने उदाहरण सहित सर्वनाम की परिभाषा, सर्वनाम किसे कहते हैं, सर्वनाम के कितने भेद हैं (Sarvanam ke Bhed) के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी दी है।

हमें उम्मीद है कि हमारा आज का आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित होगा। यदि हमारे आर्टिकल से आपको लाभ हुआ हो तो इसे सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर जरूर शेयर करें। ताकि अन्य लोग भी इसका लाभ उठा सकें। धन्यवाद!

यह भी पढ़े

19 Ka Pahada22 Ka Pahada

सर्वनाम से अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न | Sarvanam FAQ questions

सर्वनाम किसे कहते हैं, इसके कितने भेद होते हैं? | सर्वनाम क्या है और उसके भेद?

किसी भी वाक्य में संज्ञा के जगह पर प्रयोग होने वाले शब्दों को सर्वनाम कहते हैं।
सर्वनाम मुख्य रूप से 6 प्रकार के होते हैं – पुरुषवाचक सर्वनाम, निश्चयवाचक सर्वनाम, अनिश्चयवाचक सर्वनाम, प्रश्नवाचक सर्वनाम, संबंधवाचक सर्वनाम और निजवाचक सर्वनाम।

सर्वनाम के उदाहरण क्या होते हैं?

वे मेरे घर के निकट हैं 
वह एक डॉक्टर है।
क्या तुम उसको जानते हो?
उसके पास कोई काम नहीं है।
तुम विद्यार्थी हो।
उसके पिता जी बड़े व्यापारी है।
मैं आज स्कूल नहीं जाऊंगा।
वे खेल रहे हैं।
मेरी माँ उसकी नानी है 
मैं अपना काम कर रहा हूं।

सर्वनाम को हम क्यों प्रयोग करते हैं?

जब हम किसी वाक्य को बोलते या लिखते बार-बार संज्ञा की पुनरुक्ति करते हैं तो उससे वाक्य में अशुद्धि उत्पन्न हो जाती है, वाक्य को अशुद्धि से बचाने के लिए हम सर्वनाम का प्रयोग करते हैं।

आप शब्द कौन सर्वनाम है?

आप एक ऐसा शब्द है जो पुरुषवाचक सर्वनाम और निजवाचक सर्वनाम दोनों में आता है। इसको पहचानना बेहद ही आसान होता है, जब वक्ता स्वयं के लिए आप का प्रयोग करता है तो वह निजवाचक सर्वनाम होता है और जब वक्ता किसी दूसरे व्यक्ति के लिए आप शब्द का प्रयोग करता है तो वहां आप पुरुषवाचक सर्वनाम होता है।

सर्वनाम कैसे लिखते हैं?

संज्ञा के स्थान पर सर्वनाम लिखते हैं।

सर्वनाम का मुख्य उद्देश्य क्या है?

सर्वनाम का मुख्य उद्देश्य संज्ञा शब्दों की पुनरावृत्ति  को रोकना और उनके स्थान पर स्वयं कार्य करना है।

सर्वनाम शब्द कितने होते हैं?

सर्वनाम शब्द मूल रूप से 11 होते हैं – मैं, तू, यह, वह, आप, जो, सो, कौन, क्या, कोई, कुछ आदि।

‘उसने’ कौन सा सर्वनाम है?

उसने, जिसका उसका, जो–सो आदि संबंधवाचक सर्वनाम के उदाहरण हैं।

“मुझे भी छात्रवृत्ति मिलती थी” कौन सा सर्वनाम है?

मुझे भी छात्रवृत्ति मिलती थी उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम है।

सर्वनाम के भेद Worksheet with Answers

इसके लिए आप हमारे आज के लेख को पढ़ें। जहां हमने उदाहरण सहित विस्तारपूर्वक सर्वनाम किसे कहते हैं और सर्वनाम के भेद कौन-कौन से हैं के बारे में जानकारी दी है।

Leave a Comment