समय का सदुपयोग पर निबंध | Samay ka Sadupyog Essay in Hindi

नमस्कार दोस्तों, निबंध लेखन की इस कड़ी में हम आज समय का सदुपयोग पर निबंध | Samay ka sadupyog Essay in Hindi लेकर आए हैं।

अगर आप Essay on Samay ka Sadupyog in Hindi  लिखने के लिए किसी अच्छे आर्टिकल की तलाश कर रहे हैं तो आप बिल्कुल सही जगह हैं।

हमारा आज का लेख समय का सदुपयोग पर निबंध (Samay ka sadupyog Essay in Hindi) विद्यार्थियों के लिए काफ़ी उपयोगी है।

आइए बिना देर किए हुए, समय का सदुपयोग पर निबंध की शुरुआत करते हैं।

Samay ka Sadupyog par Nibandh – समय का सदुपयोग पर निबंध (Samay ka Sadupyog Essay in Hindi)

समय अमूल्य धन है

मनुष्य का जीवन क्षणभंगुर है। अतः जीवन के प्रत्येक क्षण को मूल्यवान समझ कर कार्य में जुटे रहना चाहिए। मानव – जीवन की सफलता का रहस्य समय के सदुपयोग में ही छिपा है। जो व्यक्ति अपने अमूल्य समय का लाभ नहीं उठाते और अवसर पाकर चूक जाते हैं , वे बाद में पश्चात्ताप करते और हाथ मलते रह जाते हैं। आपने यह कहावत तो सुनी ही होगी –

“अब पछिताए होत का , जब चिड़िया चुग गई खेत।"

समय की गंभीरता को समझने की ज़रूरत है। समय बड़ा बलवान होता है। जो समय का सदुपयोग करता है वह रंक से राजा हो जाता है और जो समय की उपेक्षा करता है वह राजा से रंक हो जाता है। अतः प्रत्येक मनुष्य को समय की गति और स्वभाव को पहचानना चाहिए ; एक – एक क्षण का मूल्य समझना चाहिए। प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में कुछ ऐसे क्षण आते हैं , जिन पर उसके भाग्य का बनना या बिगड़ना निर्भर होता है।

यदि उसने समय को पहचान कर उसका सदुपयोग कर लिया तो सफलता उसके चरण चूमेगी और यदि थोड़ा – सा भी आलस्य किया तो बात सदा के लिए बिगड़ जायेगी। आज का काम आज कर डालिये तो कल उससे आगे का काम करने का अवसर मिलेगा। लेकिन जो काम कल पर छोड़ा , समझो वह गया। बीत गया सो बीत गया , और भविष्य किसने देखा है। अतः जो कुछ है बस वर्तमान में ही है।

Samay ka Sadupyog par Nibandh

वक़्त पर काम करना ज़रूरी

वर्तमान समय का सदुपयोग करिये। हर काम के लिए एक निश्चित समय होता है। खाने , सोने , खेलने , पढ़ने , मनोरंजन करने , भजन – पूजा करने , सबका एक निश्चित समय होता है। कोई भी कार्य असमय नहीं करना चाहिये। निश्चित समय पर सब काम करने से जीवन में नियमितता आती है जो एक अच्छी आदत तो है ही , साथ ही सफलता की कुंजी भी है। आलस्य और अकर्मण्यता मनुष्य के सबसे बड़े शत्रु हैं। कुछ लोगों की निठल्ले बैठे – बैठे काम करने की आदत ही समाप्त हो जाती है और फिर यदि आवश्यकता पड़े और वे करना भी चाहें तो काम नहीं कर पाते। दूसरे , खाली बैठे मन बुरी बातों की ओर जाता है। कहा भी है –

“ शून्य मस्तिष्क शैतान की कार्यशाला है। "

समय को बर्बाद नहीं करना चाहिए

प्रत्येक मनुष्य के पास एक निर्धारित समय होता है। इस समय का सदुपयोग केवल मनुष्य पर निर्भर करता है। लेकिन दुर्भाग्य की बात है कि हम लोग समय का महत्त्व नहीं समझते। समय की पाबंदी का हम ध्यान नहीं रखते। समय बरबाद करना हमारे स्वभाव में शामिल हो गया है। 

अन्य देशों में समय की पाबंदी पर काफ़ी ध्यान दिया जाता है। जापान में एक बार एक सभा में एक वक्ता 5 मिनट देर से पहुँचे। एक श्रोता ने कहा कि आपने एक हजार लोगों के पाँच – पाँच मिनट अर्थात् राष्ट्र के पाँच हज़ार मिनट नष्ट किये हैं।

विद्यार्थी सारे वर्ष पढ़ाई नहीं करता है और परीक्षा निकट आने पर ही सचेत होता है। फिर परिणाम तो भयानक होना ही है। कुछ लोग मिनटों की चिन्ता नहीं करते। लेकिन केवल एक मिनट की देर हो जाए तो गाड़ी छूट जाती है।

समय महासपुरुषो का साथ देता है

आप सब को तो ये बात पता ही है, कि संसार मे जितने भी महापुरुष व मेघावी व्यक्ति हुए हैं। उन्होंने अपने समय का बुद्धिमतापूर्वक सदुपयोग किया है, जिसका परिणाम है कि आज वह महापुरुषों में गिने जाते हैं।

आप नेपोलियन का उदाहरण ले सकते हैं। नेपोलियन युद्ध भूमि केवल पाँच मिनट देर से पहुंचा था जिसके कारण वह युद्ध में पराजित हो गया तथा कैद कर लिया गया। महात्मा गाँधी ने समय के अमूल्य रत्न को पहचान कर अपने निश्चित दैनिक कार्यक्रम का आदर्श प्रस्तुत किया। अतः हमें अपने सभी कार्य समय पर ही करना चाहिए। आज का काम कल पर नही टालना चाहिए।

समय के सदुपयोग की विधि

समय सबसे बड़ी निधि है। खुशी , सफल और शांत जीवन के लिए समय का सदुपयोग और नियमित जीवन आवश्यक है। अगर आप समय के सदुपयोग की विधि जानना चाहते हैं तो आपको बता दें, आपको अपने प्रत्येक कार्य को करने के लिए उसके अनुकूल एक निश्चित समय तय करना होगा। समय के अनुकूल कार्य को निर्धारित करना होगा। 

 मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु आलस्य है। आलस्य व्यक्ति की उन्नति के मार्ग में सबसे बड़ी बाधा है। व्यक्ति अपने आलस्य के कारण समय के महत्व को नही समझ पाता है और समय के सदुपयोग नहीं कर पाता है। इसलिए, आपको अपने आलस्य का त्याग करके समय की महत्ता पर ध्यान जरुरी है। रुपये – पैसों के हिसाब की तरह हमें एक डायरी में अपने समय और कार्यक्रम का ब्यौरा रखना चाहिए। इस प्रकार धीरे – धीरे हमें समय के सदुपयोग का अभ्यास होता जायेगा और सफलता के सभी मार्ग हमारे लिए खुलते जायेंगे।

समय का सदुपयोग कैसे करें?

समय का सदुपयोग करके कोई भी व्यक्ति धनवान, सबल और विद्वान बन सकता है। समय का सदुपयोग करने वाले प्रत्येक व्यक्ति को परम सुख, वैभव और आनंद प्राप्त होता है। समय के सदुपयोग से ही किसी भी व्यक्ति की शारीरिक, मानसिक और अध्यात्मिक उन्नति सम्भव है। आप अपने समय का सदुपयोग आप नीचे बताए गए टिप्स को फॉलो करके कर सकते हैं –

सुबह जल्दी उठें

अगर आप अपनी समय का सदुपयोग करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको सुबह जल्दी उठना होगा। सुबह जल्दी उठकर आप व्यायाम करें।

लक्ष्य निर्धारित करें

समय का सदुपयोग करने के लिए आपको सबसे पहले अपने जीवन में एक लक्ष्य को निर्धारित करना होगा और फिर आपको अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए रोजाना उस पर मेहनत करना होगा।

आलस्य त्याग दें

आपको अपने जीवन से आलस्य को निकाल फेंकना होगा। क्योंकि एक आलसी व्यक्ति कभी भी अपने जीवन में आगे नहीं बढ़ सकता है।

खाली न बैठें

आपने ये कहावत तो सुनी ही होगी कि ‘खाली दिमाग शैतान का घर’ होता है। इसलिए, आप कभी भी खाली न बैठें। हमेशा कुछ-न-कुछ काम करने की कोशिश करें।

किताबें पढ़ें

अपने समय का सदुपयोग करने के लिए आप अधिक से अधिक किताबें पढ़ें। क्योंकि आप जितना अध्ययन करेंगे उतना ही आपका ज्ञान बढ़ेगा।

कुछ नया सीखें

अपने खाली समय में कुछ नया सीखने की कोशिश करें। इससे आपका ज्ञान बढ़ेगा।

समय का नुकसान और इंसान की असफलता

समय का न कोई आरम्भ है और ना ही कोई अंत। समय को ना खरीदा जा सकता है और ना ही बेचा जा सकता है। कुछ लोग समय के महत्व को समझकर भी अपने अमूल्य समय को बर्बाद करते है और गलत फैसले लेते हैं। जिससे उनका जीवन बेजान और प्रभावहीन हो जाता है। जो लोग मौज़ मस्ती में अपना कीमती समय व्यर्थ करते हैं, उसका दुष्परिणाम उन्हें आगे चलकर भुगतना पड़ता है।

निष्कर्ष

समय बहुत ही शक्तिशाली होता है, जो व्यक्ति समय को बर्बाद करता है, समय उसको बर्बाद कर देता है। इसलिए, अगर आप अपनी जिन्दगी में सफल होना चाहते हैं तो आपको अपने समय की कदर करनी होगी।

समय किसी के लिए भी रुकता नहीं है और ना ही किसी का इंतज़ार करता है।

यदि आप अपने जीवन में आगे बढ़ना चाहते हैं तो आपको अपनी जिंदगी में सही समय में सही फैसले लेने होंगे और आपको सही दिशा में प्रयास करना होगा, तभी आप अपने समय का सदुपयोग कर पाएंगे।

समय बड़ा बलवान होता है

समय की एक खास बात…

की, वो आपके हाथ मे होता है।

और ये आप के हाथ मे है कि

आप इसका कैसे प्रयोग करते है…॥

Samay ka Sadupyog Essay in Hindi FAQ

सदुपयोग क्या है?

किसी भी कार्य या वस्तु का उचित इस्तेमाल ही सदुपयोग कहलाता है।

समय का सदुपयोग का क्या अर्थ है?

समय के सदुपयोग का अर्थ होता है समय का उचित उपयोग करना। समय का सही उपयोग करना ही समय का सदुपयोग कहलाता है।

हमें समय का सदुपयोग क्यों करना चाहिए?

समय के सदुपयोग से व्यक्ति की शारीरिक, मानसिक और अध्यात्मिक उन्नति सम्भव है। इसलिए, हमें समय का सदुपयोग करना चाहिए।

कुछ लोग समय का सदुपयोग क्यों नहीं कर पाते?

जो व्यक्ति समय के महत्व को नहीं समझता है वह समय का सदुपयोग नहीं कर पाता है। ऐसा व्यक्ति अपने किसी भी कार्य को योजनाबद्ध तरीके से नहीं कर पाता है, जिससे उसे केवल असफलता ही हाथ लगती है।

एक विद्यार्थी के रूप में जीवन में समय का महत्व बताते हुए लिखें कि आप समय का सदुपयोग कैसे करते हैं?

प्रत्येक विद्यार्थी को चाहिए कि वे अपना प्रत्येक कार्य निर्धारित समय पर या उसके पूर्व ही समाप्त कर लें। जिससे वे अपने बचे हुए समय में अन्य कामों को करने की रूपरेखा बना सके। आप समय का सदुपयोग नए-नए ज्ञान को अर्जित करने में कर सकते हैं। आप खाली समय में अपने शिक्षकों या अपने से बड़ों से मार्गदर्शन प्राप्त कर सकते हैं।

आज आपने क्या सीखा?

हमारा आज का आर्टिकल समय का सदुपयोग पर निबंध | Samay ka sadupyog Essay in Hindi से संबंधित था।

हमें उम्मीद है कि हमारा आज का आर्टिकल समय का सदुपयोग एस्से इन हिंदी | Essay on Samay ka Sadupyog in Hindi आपके लिए उपयोगी साबित होगा। यदि हमारे आर्टिकल से आपको लाभ हुआ हो तो इसे सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर शेयर करें। धन्यवाद!

यह भी पढ़े

Leave a Comment