मेरे सपनों का भारत पर निबंध 1000 शब्द | Mere Sapno Ka Bharat Essay in Hindi

नमस्कार दोस्तों, निबंध लेखन की इस कड़ी में आज हम मेरे सपनों का भारत पर निबंध | Mere Sapno Ka Bharat Essay in Hindi लेकर आए हैं।

अगर आप हिंदी में मेरे सपनों का भारत पर निबंध कैसे लिखा जाए के लिए किसी अच्छे आर्टिकल की तलाश कर रहे हैं तो आप बिल्कुल सही जगह हैं।

आमतौर पर विद्यालयों में मेरे सपनों का भारत पर निबंध प्रतियोगिता आयोजित की जाती है, जिसने बच्चों को निम्न शीर्षक दिए जाते हैं – मेरे सपनों का भारत पर निबंध 100 शब्द, मेरे सपनों का भारत पर निबंध 300 शब्द, मेरे सपनों का भारत पर निबंध 150 शब्द, मेरे सपनों का भारत पर निबंध 250 शब्द, मेरे सपनों का भारत पर निबंध 500 शब्द, मेरे सपनों का भारत पर निबंध 200 शब्द, मेरे सपनों का भारत 2047. इसलिए, आज के आर्टिकल में हम आपको बिल्कुल सरल भाषा में मेरे सपनों का भारत पर निबंध लिखना सिखाएंगे।

आइए बिना देर किए हुए, मेरे सपनों का भारत पर निबंध लिखने की शुरुआत करते हैं।

Mere Sapno Ka Bharat Essay in Hindi

Mere Sapno Ka Bharat Essay in Hindi

Mere Sapno Ka Bharat एकपरिचय | Introduction

मैं मेरे सपनों के भारत के बारे में हर समय यही सोचता हूँ की मेरे सपनों का भारत कैसा होना चाहिए। हर एक देश का निवासी अपने ही देश को सबसे अच्छा मानता है। किन्तु मेरे सपनों के भारत ऐसा है, जिसे दूसरे देश के वासी भी सबसे अच्छा माने। यही तो मेरे सपनों के भारत की विशेषता है।

अभी संसार में सभ्यता का सूर्योदय भी नहीं हुआ था, जब भारत के ऋषि वेदों की रचना कर रहे थे। ऋषि-मुनियों ने सर्वप्रथम ज्ञान का प्रकाश देकर विश्व के मनुष्य को जीवन का पथ दिखाया था। उपनिषदों के ज्ञान से मानवता को नया ‘दर्शन’ मिला था। आध्यात्मिक दृष्टि से ही नहीं, भौतिक सम्पदा की दृष्टि से भी भारत संसार का अग्रगण्य देश रहा है। मेरे सपनों का भारत भी ऐसा ही होना चाहिए।

संस्कृत-साहित्य के अध्ययन से पता चलता है कि विज्ञान, गणित, नक्षत्र विज्ञान, वैद्यक चिकित्सा, अर्थशास्त्र आदि विषयों के प्राचीन विद्वान् भारतवर्ष के ही थे, जिन्होंने इन क्षेत्रों में अरब, यूनान, रोम, चीन आदि प्राचीन सभ्यताओं के विकास से भी पहले संसार को शिक्षा प्रदान की थी। ऐसा ही मेरे सपनों का भारत भी होना चाहिए।

Essay on India of My Dreams in Hindi

मेरा देश भारतवर्ष है वह पवित्र पुण्य भूमि है, जहाँ पर जन्म लेने के लिए स्वर्ग के देवता भी तरसते रहते हैं। भगवान् भी इसी धरती पर अवतार लेता है। दूसरे देशों के यात्री मैगस्थनीत, फाहयान आदि कष्टदायक यात्राएँ करके जिसकी मिट्टी का तिलक करने आए चीन, जापान, कोरिया, हिन्देशिया, सुमात्रा, जावा, चम्पा, सुवर्णभूमि, श्री लंका, कम्बोडिया आदि के निवासी आज भी जिस देश का ऋण मानते हैं जहाँ के तीर्थों की यात्रा करके अपने जीवन को कृतार्थ करते हैं, यही भारतवर्ष  मेरे सपनों के भारत है।

उज्ज्वल भारत की तस्वीर

मेरा देश भारतवर्ष जिसकी सभ्यता और संस्कृति का साम्राज्य किसी समय समस्त पूर्वी दक्षिणी एशिया में फैला हुआ था जिस देश की सीमाएँ कभी पश्चिम में ईरान, पूर्व में बर्मा, दक्षिण में श्रीलंका और उत्तर में तिब्बत को छूती थीं; जिस देश के साहसी व्यापारी समुद्रों को पार करके सुदूर पूर्व और पश्चिम में रोम, मिस्र तथा अरब देशों में अपना माल बेचते थे; जिस देश के कूटनीतिक सम्बन्ध इन सभी देशों के साथ हजारों वर्ष पूर्व स्थापित हो चुके थे, वही देश मेरे सपनों का भारत है।

जिस देश में गंगा बहती है, वही भारतवर्ष मेरे सपनों का भारत है। उत्तर में संसार का सबसे ऊँचा पर्वत हिमालय अपनी रुपहली चोटियों के साथ हीरे-चाँदी के श्वेत मुकुट के समान जिसके मस्तक की शोभा बढ़ा रहा है; गंगा, यमुना, ब्रह्मपुत्र, सिन्धु जैसी नदियाँ जिसके गले में मोतियों की माला की तरह लटकती हुई शोभा देती हैं; हिन्द महासागर की लाल लहरें प्रतिक्षण जिसके चरण-कमलों को धोकर प्रशंसा के मधुर गीत गाया करती है; बद्रीनाथ, केदारनाथ, जगन्नाथपुरी, गया, वाराणसी, प्रयाग जैसे महान् और पवित्र तीर्थ स्थान जिसके अंक में बसे हुए हैं, वही भारतवर्ष मेरे सपनों का भारत है।

प्रकृति का समस्त सौंदर्य जिस देश की स्थायी सम्पत्ति है; पृथ्वी का स्वर्ग कश्मीर जिसे केसर के फूल भेंट करता है; संसार का आठवाँ आश्चर्य ताजमहल जिसकी कला का विज्ञापन विश्व भर में किया करता है; अजन्ता और ऐलोरा की विख्यात गुफाएँ जिसके अतीत गौरव को सँजोए हुए हैं; महाराष्ट्र की भूमि, राजस्थान का इतिहास, बंगाल और पंजाब की वीरगाथाएँ जिसकी स्वतन्त्रता की साक्षी हैं; कुरुक्षेत्र, अयोध्या, मथुरा, नालन्दा, लखनऊ, दिल्ली जैसी नगरियों में जिसकी विविध पुण्य स्मृतियाँ आज भी जीती हैं, वही राम, कृष्ण, बुद्ध और नानक की जन्म भूमि मेरा देश है।

मेरे सपनों का जगद्गुरु भारत

भारतवर्ष को ‘जगद्गुरु’ की उपाधि मिली थी। इसे ‘सोने की चिड़िया’ कहा जाता था। संसार के कोने-कोने के विद्यार्थी विद्या ग्रहण करने यहाँ आते थे। अशोक, विक्रमादित्य, हर्ष, स्कन्दगुप्त जैसे चक्रवर्ती सम्राट् इसके रक्षक थे। वाल्मीकि, कालिदास, तुलसीदास आदि महाकवियों ने इसी का अन्न-जल खाकर विश्व के अमर साहित्य की रचना की थी।

राणा प्रताप और शिवाजी ने इसकी मान-मर्यादा के लिए जीवन भर तपस्या की थी। लक्ष्मीबाई, ताँत्या टोपे से लेकर तिलक, गाँधी, सुभाष और नेहरू जैसे वीर सपूतों ने जिसको विदेशी शासन से मुक्त कराने के लिए स्वतन्त्रता संग्राम में अपना तन-मन-धन न्यौछावर कर दिया, मेरे सपनों का भारत भी ऐसा ही होना चाहिए।

आपके सपनों का भारत कैसा होना चाहिए Class 8

मेरे सपनों का भारत ऐसा है जहां हर एक मनुष्य को अपने भारतीय होने पर गर्व हो। मेरे सपनों का भारत में हर तरफ हरयाली और सुंदर प्रकृति हैं। यहां गरीबी का नामो निशान भी नहीं है। यहां चारो तरफ खुशियाँ हैं, सभी को रोज़गार मिला हुआ है। मेरे सपनों के भारत में चाहे गांव हो या फिर शहर सभी जगहों पर साफ़ पानी, बिजली, स्कूल, और अस्पताल हों।

मेरे सपनों के भारत में भ्रष्टाचार, अव्यवस्था दूर दूर तक न हो। लोगों को अपने सपने पूरा करने के लिए विदेश न जाना पड़े। कभी भी साम्प्रदायक दंगे न हों, आतंकवाद की घटनाएं न हों, सड़कों पर गड्ढे न हों, बढ़ती आबादी की वजह से हर जगह भीड़ न हो आदि। सबसे जरूरी बात मेरे सपनों के भारत में हर इंसान पढ़ा लिखा हो। महिला हो या फिर पुरुष सबको हर क्षेत्र में बराबर का अधिकार मिले। कुछ ऐसा है मेरे सपनों का भारत।

हम अपने सपनों के भारत को अच्छा कैसे बना सकते है ?

मेरे सपनों का भारत का ख्वाब तभी पूरा होगा जब देश का प्रत्येक नागरिक इसे पूरा करने में लग जाए। देश की उन्नति के लिए लोगों में शिक्षा के प्रति उत्साह पैदा करना होगा। चाहे कोई भी धर्म हो (हिन्दू , मुस्लिम , सिख , इसाई) सभी को एकजुट होकर आपस में मिल जुल कर रहना होगा। सभी में भाईचारे की भावना होनी चाहिए। जैसे जैसे हमारा देश प्रगति की ओर बढ़ रहा है वैसे वैसे हम प्रकृति से दूर होते जा रहे हैं, लोग सड़कों को चौड़ा करने के लिए पेड़ काटते जा रहे हैं।

जिसकी वजह से गर्मी के मौसम में गर्मी बढ़ती जा रही है और ठण्ड के मौसम में ठण्ड। इसलिए, लोगों को ज्यादा से ज्यादा पेड़ों को लगाना होगा। तभी आप शुद्ध और स्वच्छ हवा में सांस ले पाएंगे। सरकार को बेरोज़गारी खत्म करने की ओर विशेष कदम उठाने होंगे तभी देश के प्रत्येक घर में खुशियां दस्तक देंगी।

मेरे सपनों के भारत निष्कर्ष

मैंने अपने देश भारत को लेकर इतना सुंदर सपना देखा है लेकिन इस सपने को पूरा होने में कितना समय लगेगा यह कह पाना बहुत मुश्किल है और यह स्वप्न पूरा होगा भी या नहीं यह भी एक सोचनीय विषय है।

आज हमारे देश में चारों तरफ भ्रष्टाचार व्याप्त है देश का प्रत्येक नागरिक केवल अपने स्वार्थ के बारे में सोचता है। हमारे देश को चलाने वाले नेता देश का सुधार करने की जगह यहां से धन बटोरने में लगे हुए हैं।

जब सभी देशवासी मिलकर देश को सुधारने के लिए प्रयास करेंगें तो वह दिन दूर नहीं जब मेरे सपनों का भारत का स्वप्न सच हो जाएगा और मैं गर्व से कह पाऊंगा की यह है मेरे और आपके सपनों का भारत।

मेरे सपनों का भारत से अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न | Mere Sapno Ka Bharat FAQ

भारत के बारे में आपका क्या सपना है ?

भारत के बारे में मैं स्वप्न देखते हुए एक ऐसे भारत की कल्पना करता हूं जहां सभी भारतवासी स्वस्थ हों, वो सफलता की सीढ़ियां चढ़े, सबकी मदद करें, सभी देशवासियों के हृदय में दान-दया, करुणा, प्रेम की भावना हो। मैं एक ऐसे भारत का सपना देखता हूं जहां दूर-दूर तक भ्रष्टाचार, गरीबी और अशिक्षा न हो।

हम अपने सपनों के भारत को अच्छा कैसे बना सकते है ?

हम अपने सपनों के भारत को लगातार प्रयास करके अच्छा बना सकते हैं। देश के प्रत्येक नागरिक को भारत की उन्नति की दिशा में प्रयास करना होगा और तब तक नही रुकना होगा जब तक की सफलता प्राप्त न हो जाए।

मेरे सपनों का भारत कैसा होगा?

मेरे सपनों का भारत अखंड भारत होगा, जहां दूर-दूर तक भ्रष्टाचार, गरीबी और अशिक्षा नहीं होगी।

यह निबंध किसके लिए उपयोगी होगा?

यह निबंध स्कूल और कॉलेज के विद्यार्थियों उपयोगी होगा। इसके अलावा जहां कहीं भी मेरे सपनों का भारत पर निबंध या भाषण प्रतियोगिता आयोजित की जाती है, वहां यह निबंध आपको प्रथम पुरस्कार दिलाने का काम करेगा।

आज आपने क्या सीखा?

हमारा आज का आर्टिकल मेरे सपनों का भारत पर निबंध | Mere Sapno Ka Bharat Essay in Hindi से संबंधित है।

जहां हमने आपके सपनों का भारत कैसा होना चाहिए, मेरे सपनों का भारत पर निबंध, Mere Sapno Ka Bharat Essay in Hindi के बारे में जानकारी दी है।

हमें उम्मीद है कि हमारा आज का आर्टिकल मेरे सपनों का भारत पर निबंध | Mere Sapno Ka Bharat Essay in Hindi आपके लिए उपयोगी साबित होगा। यदि हमारे आर्टिकल से आपको लाभ हुआ हो तो इसे सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर शेयर करें। धन्यवाद!

यह भी पढ़े

Leave a Comment